Breaking

इस मकबरे में गूँजती है सात बार आवाज - जानें गोल गुम्बद से जुडी रोचक जानकारी

जानें ऐतिहासिक गोल गुम्बद (गोल गुम्बज) से जुडी रोचक जानकारी / Information About Gol Gumbaz in Hindi


Information About Gol Gumbaz in Hindi
दुनिया के जाने माने प्राचीन मकबरो में शामिल गोल गुम्बद (गोल गुम्बज) जिसे भारत का सबसे बड़ा प्राचीन मकबरा होने का गौरव प्राप्त है विश्व का दूसरा सबसे बड़ा मकबरा है.कर्नाटक राज्य के बीजापुर में स्तिथ यह मकबरा भारत ही नहीं अपितु विश्वभर के पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र है.

जी हां दोस्तों, आज का हमारा लेख इसी मकबरे (Information About Gol Gumbaz) से सम्बंधित है. आज हम आपको बीजापुर के गोल गुम्बद से जुडी वे सभी रहश्यमई बातें बताने जा रहे है जो आपने आज से पहले शायद ही कहीं पढ़ी होंगी. तो चलिए जानते है

बीजापुर के गोल गुम्बद से जुडी रहस्य से भरपूर रोचक जानकारी - Gol Gumbaz Information

Information About Gol Gumbaz in Hindi

1. गोल गुम्बद का निर्माण फ़ारसी वास्तुकार दाबुल क याक़ूत ने करवाया था. यह मकबरा 1626 में बनना शुरू होकर 1656 में बनकर तैयार हुआ था. इस मकबरे को बनने में लगभग 30 वर्ष का समय लगा.

2. गोल गुम्बद को गोल गुम्बज व् गोल गुमट के नाम से भी जाना जाता है.

3. क्या आप जानते है गोल गुम्बद आदिलशाही वंश के सातवें शासक और बीजापुर के सुल्तान मुहम्मद आदिलशाह का मकबरा है.

4. भारत के इस खूबसूरत और विशाल गुम्बद का क्षेत्रफल लगभग 18 हजार 337 वर्गफुट है और इसकी ऊंचाई करीब 175 फुट है. आप इस विशाल गुम्बद से पुरे बीजापुर शहर का नजारा ले सकते है.

5. गोल गुम्बद में एक संग्रहालय भी बनाया गया है, जहां बादशाह से जुडी वस्तुए राखी गई है. क्या आप जानते है पहले ये गोल गुम्बद का हिस्सा माना जाता था, लेकिन ब्रिटिश शासकों ने इसे 1892 में म्यूजियम में तब्दील कर दिया.

6. गोल गुम्बद के मकबरे के आंतरिक त्रिज्या पर एक गोलाकार गलियारा भी बना हुआ है, जिसे अंग्रेजों ने “व्हिस्परिंग गैलरी” और आम भाषा में फुस्फुसाने वाला गलियारा नाम दिया है.

7. गोल गुम्बद में पर्यटकों के लिए एक कैंटीन भी बनाई गई है. जहा से पर्यटक खाने पिने का समान खरीद सकते है.
8. गोल गुम्बद में बनी गैलरी की खासियत यह है कि इस गैलरी में 7 बार आवाज गूंजती है और एक तरफ से बिल्कुल साफ सुनाई देती हैं. इस गूंज के पीछे यह भी मान्यता है कि राजा आदिल शाह और उनकी बेगम इसी गैलरी के रास्ते एक-दूसरे से बातें किया करते थे

9. क्या आप जानते है कि इस गूंज के पीछे यह भी मान्यता है कि राजा आदिल शाह और उनकी बेगम इसी गैलरी के रास्ते एक-दूसरे से बातें किया करते थे.

10. गोल गुम्बद कि वास्तुकला बेहद आकर्षित करने वाली है. उदाहरण के तौर पर गोल गुम्बद की इमारत में चार कोंनो से जुड़ी हुई चार मीनारें हैं, और हर मीनार 7 मंजिल की है और इसके ऊपर बुर्ज है.

11. इस इमारत में बड़ी-बड़ी खिड़कियां भी बनाईं गईं हैं जिसमे से सूरज कि रौशनी गोल गुम्बद के अंदर तक जाती है.

12. क्या आप जानते है गोल गुम्बद में बनाएं गए सभी दरवाजे सगोंन कि लकड़ी के बने है. ये लकड़ी सैकड़ो सालो तक टिकी रह सकती है. आपको बता दे कि गोल गुम्बद से लेकर इसकी छत तक जानें में कुल 7 दरवाजे बनाएं गए है.

13. गोल गुम्बद सेंट पीटर्स के बाद दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा मकबरा है. जो कि विश्वभर में प्रसिद्व है.

14. इस मकबरे के आस पास घना हरा भरा एरिया है. यह पेड़ - पौधे व् हरे भरे बाग़ है जो इस मकबरे कि खूबसूरती को और बढ़ा देते है

15. इस गुम्बद को देखने के लिए हर साल लाखो पर्यटक इस स्थान पर आते है.रेलवे स्टेशन से महज 2 किलोमीटर की दुरी पर बने इस गुम्बद को देख़ने के लिए ऑटो रिक्शा में महज 10 रूपए लगते है.

नोट : अगर आपको 'जानें ऐतिहासिक गोल गुम्बद (गोल गुम्बज) से जुडी रोचक जानकारी - Gol Gumbaz Information' लेख पसंद आया है तो इसे ज्यादा से ज्यादा Share करें. आपका किया गया एक शेयर GyaniMaster Team का हौसला बढ़ाने में अहम योगदान देता है. आप हमसे जुड़ने के लिए Free Email Subscribe और हमारे Facebook Page को फॉलो करें.

ये भी जानें : 

इस किले के तहखाने में रखे जाते थे गोला बारूद - पल्लीपुरम किले से जुड़े रोचक तथ्य

आखिर क्यों पाई जाती है हौज़ खास किले में गजब की शांति - जानें हौज़ खास किले से जुड़े रोचक तथ्य

No comments:

Post a Comment